Kaal Bhairav काल भैरव Legends

t

The origin of Bhairava can be traced to the conversation between Lord Brahma and Lord Vishnu recounted in “Shiv Maha-Puran” where Lord Vishnu asks Lord Brahma who is the supreme creator of the Universe. Arrogantly, Brahma tells Vishnu to worship him because he (Brahma) is the supreme creator. This angered Shiva who in reality is the creator of all. Shiva then incarnated in the form of Bhairava to punish Brahma. Bhairava beheaded one of Brahma’s five heads and since then Brahma has only four heads. When depicted as Kala Bhairava, Bhairava is shown carrying the decapitated head ofBrahma. Cutting off Brahma’s fifth head made him guilty of the crime of killing a Brahmin, and as a result, he was forced to carry around the head for years and roam as Bhikshatana, a mendicant, until he had been absolved of the sin.

 

In another version, when Brahma sees the cosmic confusion while creation of universe and ponders how to settle it. He createdSaraswati from his imagination (‘Manasaputri’). She issued as Shatarupa. She presented him with the wealth of knowledge and wisdom. But Brahma was infatuated with her beauty and pursued her. He sprouted a fifth head to gaze at her continuously. The horrified goddess took multiple forms to escape his eye, but Brahma continued to take a complementary form and chase her. This unlawful lust caused an imbalance in the universe and Lord Shiva took the form of Bhairava to put an end to such incest. He confronted Brahma and cut off his fifth head which brought him to his senses. He then performed a yagna to purify himself, reciting mantras with his four heads for salvation.

Kall Bhairav
Kall Bhairav

In the form of the frightful Bhairava, Shiva is said to be guarding each of these Shaktipeeths. Each Shaktipeeth temple is accompanied by a temple dedicated to Bhairava.

I still appreciate individuality. Style is much more interesting than fashion, really. Attitude is everything. It’s really easy to get colors right. It’s really hard to get black – and neutrals – right.

कालभैरव देव की उत्पत्ति

तंत्राचार्यों का मानना है कि वेदों में जिस परम पुरुष का चित्रण रुद्र में हुआ, वह तंत्र शास्त्र के ग्रंथों में उस स्वरूप का वर्णन ‘भैरव’ के नाम से किया गया, जिसके भय से सूर्य एवं अग्नि तपते हैं। इंद्र-वायु और मृत्यु देवता अपने-अपने कामों में तत्पर हैं, वे परम शक्तिमान ‘भैरव’ ही हैं। भगवान शंकर के अवतारों में भैरव का अपना एक विशिष्ट महत्व है।

तांत्रिक पद्धति में भैरव शब्द की निरूक्ति उनका विराट रूप प्रतिबिम्बित करती हैं। वामकेश्वर तंत्र की योगिनीहदयदीपिका टीका में अमृतानंद नाथ कहते हैं- ‘विश्वस्य भरणाद् रमणाद् वमनात्‌ सृष्टि-स्थिति-संहारकारी परशिवो भैरवः।’

भ- से विश्व का भरण, र- से रमश, व- से वमन अर्थात सृष्टि को उत्पत्ति पालन और संहार करने वाले शिव ही भैरव हैं। तंत्रालोक की विवेक-टीका में भगवान शंकर के भैरव रूप को ही सृष्टि का संचालक बताया गया है।

श्री तंत्वनिधि नाम तंत्र-मंत्र में भैरव शब्द के तीन अक्षरों के ध्यान के उनके त्रिगुणात्मक स्वरूप को सुस्पष्ट परिचय मिलता है, क्योंकि ये तीनों शक्तियां उनके समाविष्ट हैं-

‘भ’ अक्षरवाली जो भैरव मूर्ति है वह श्यामला है, भद्रासन पर विराजमान है तथा उदय कालिक सूर्य के समान सिंदूरवर्णी उसकी कांति है। वह एक मुखी विग्रह अपने चारों हाथों में धनुष, बाण वर तथा अभय धारण किए हुए हैं।

‘र’ अक्षरवाली भैरव मूर्ति श्याम वर्ण हैं। उनके वस्त्र लाल हैं। सिंह पर आरूढ़ वह पंचमुखी देवी अपने आठ हाथों में खड्ग, खेट (मूसल), अंकुश, गदा, पाश, शूल, वर तथा अभय धारण किए हुए हैं।

‘व’ अक्षरवाली भैरवी शक्ति के आभूषण और नरवरफाटक के सामान श्वेत हैं। वह देवी समस्त लोकों का एकमात्र आश्रय है। विकसित कमल पुष्प उनका आसन है। वे चारों हाथों में क्रमशः दो कमल, वर एवं अभय धारण करती हैं।

स्कंदपुराण के काशी- खंड के 31वें अध्याय में उनके प्राकट्य की कथा है। गर्व से उन्मत ब्रह्माजी के पांचवें मस्तक को अपने बाएं हाथ के नखाग्र से काट देने पर जब भैरव ब्रह्म हत्या के भागी हो गए, तबसे भगवान शिव की प्रिय पुरी ‘काशी’ में आकर दोष मुक्त हुए।

ब्रह्मवैवत पुराण के प्रकृति खंडान्तर्गत दुर्गोपाख्यान में आठ पूज्य निर्दिष्ट हैं- महाभैरव, संहार भैरव, असितांग भैरव, रूरू भैरव, काल भैरव, क्रोध भैरव, ताम्रचूड भैरव, चंद्रचूड भैरव। लेकिन इसी पुराण के गणपति- खंड के 41वें अध्याय में अष्टभैरव के नामों में सात और आठ क्रमांक पर क्रमशः कपालभैरव तथा रूद्र भैरव का नामोल्लेख मिलता है। तंत्रसार में वर्णित आठ भैरव असितांग, रूरू, चंड, क्रोध, उन्मत्त, कपाली, भीषण संहार नाम वाले हैं।

भैरव कलियुग के जागृत देवता हैं। शिव पुराण में भैरव को महादेव शंकर का पूर्ण रूप बताया गया है। इनकी आराधना में कठोर नियमों का विधान भी नहीं है। ऐसे परम कृपालु एवं शीघ्र फल देने वाले भैरवनाथ की शरण में जाने पर जीव का निश्चय ही उद्धार हो जाता है।.

I’ve treated the waistcoat as if it were a corset, so that it becomes the first layer in the process of putting clothes on the body. There is constant motion between layering and revealing.

Kaal Bhairav, Varnasi
Kaal Bhairav, Varnasi
(Visited 598 times, 1 visits today)


Share This Post

Post Comment